Ads

Breaking News

मध्ये प्रदेश चुनाव से पहले बीजेपी को बड़ा झटका, साधु-संतों ने थामा कांग्रेस का हाथ देखें


दोस्तो आप सभी का सुवागत है  big news18  में मध्यप्रदेश में चुनावी शोर तेज होता जा रहा है जैसे जैसे चुनाव नजदीक आते जा रहे है सियासी माहौल भी गर्माने लगा है. इस बार मध्यप्रदेश में सत्ताधारी बीजेपी के लिए खासा मुश्किलें नजर आ रही है. सूबे की जनता में सत्ताधारी बीजेपी के खिलाफ नाराजगी देखी जा रही है. जनता के साथ साथ इस बार संत समाज भी बीजेपी से नाराज हो गया है. साधू संत बीजेपी के कट्टर समर्थक रहे है लेकिन इस बार उनमें भी काफी नाराजगी देखने को मिल रही है.

यह भी पढ़े: मध्य प्रदेश के चुनावी रण में साधु-संतों का 'यह फैसला' कांग्रेस के लिए बन सकती है संजीवनी!

ऐसे में साधु-संतो की नाराजगी शिवराज सरकार को भारी पड़ सकती है. जबलपुर में शुक्रवार को साधु-संतों ने 'नर्मदा संसद' का आयोजन किया और इस दौरान उन्होंने विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को समर्थन देने का ऐलान कर दिया नर्मदा नदी के तट पर 'नर्मदा संसद' का आयोजन कंप्यूटर बाबा ने किया था।

इस दौरान उन्होंने कहा कि शिवराज सरकार को सबस सिखाने का समय आ गया है. हमें कांग्रेस को पांच साल का मौका देना चाहिए. माफ़ करें शिवराज माफ़ करें महाराज आइए कांग्रेस को मौका देते है. मध्यप्रदेश के जबलपुर में इस नर्मदा संसद का आयोजन किया गया था इसी दौरान एमपी विधानसभा चुनाव में कांग्रेस का समर्थन करने की घोषणा की गई.

यह भी पढ़े: 5 राज्यों में हो रहे विधानसभा चुनावों में इन राज्यों में बनेगी बीजेपी की सरकार और यहाँ होगी हार देखें

आपको बता दें कि कंप्यूटर बाबा को शिवराज सरकार में राज्यमंत्री का दर्जा दिया गया था. लेकिन कुछ ही समय बाद उन्होंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया था. इसके साथ ही उन्होंने शिवराज सरकार पर कई आरोप लगाए थे।

इस संसद में प्रदेश और देश के विभिन्न हिस्सों से बड़ी संख्या में साधु-संत यहां पहुंचे. उन्होंने अपनी बात कही. साथ ही कहा, "जो राम का नहीं वह किसी काम का नहीं."